नईदुनिया, इंदौर। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर न्यायालय के फैसले पर नाराजगी जाहिर वाले शायर मुनव्वर राना के बयान पर विश्व हिदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व न्यायाधीश वीएस कोकजे ने पलटवार किया है। गुरुवार को उन्होंने कहा कि राना अयोध्या मामले में न्यायालय में पक्षकार नहीं हैं। वे शायरी की चार लाइन लिखते रहते हैं तो यह जरूरी नहीं कि वे देश के हर मुद्दे पर बोलें।

दैनिक जागरण के सहयोगी प्रकाशन नईदुनिया से चर्चा में कोकजे ने कहा कि हम राम मंदिर निर्माण के लिए संकल्पित हैं। भूमिपूजन भी हो चुका है। तय समय सीमा में मंदिर निर्माण भी हो जाएगा। सर्वोच्च न्यायालय ने मस्जिद निर्माण के लिए भी जमीन दी है। शायर राना अब वहां अस्पताल की सलाह दे रहे हैं। वे मस्जिद कहीं और बनाना चाहते हैं तो यह बात न्यायालय को बताएं। न्यायालय ने जो निर्णय दिया है, उसे सभी पक्षों ने माना है।

उन्‍होंने कहा कि न्यायालय में भी सिद्ध हो चुका है कि श्रीराम जन्मभूमि पर बाद में मस्जिद का निर्माण किया गया था। मुस्लिम शासकों ने ऐसा कई स्थानों पर किया था, यह इतिहास में दर्ज है। अब जन्मभूमि पर मंदिर बन रहा है तो इसमें राना को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। कोकजे ने कहा कि राम मंदिर निर्माण से देश के करोड़ों लोगों की आस्था जुड़ी है। लोग स्वेच्छा से ट्रस्ट को मंदिर निर्माण के लिए धनराशि दे रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि गत दिवस शायर मुनव्वर राना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था कि अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए दी गई जमीन पर राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनाया जाए। मस्जिद का निर्माण जबरदस्ती हासिल की गई या ली गई जमीन पर नहीं होता। राना ने रायबरेली में अपनी जमीन पर बाबरी मस्जिद बनाए जाने का प्रस्ताव भी दिया था।

Posted By: mubashir ahmed